Your email:karme@add3000.pp.ua have: 99 messages Automatic search for emails

From
Subject
Time (UTC)
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Shahbaz King Rajput changed the type of the group ",,,,,,Meri __ Zindgi__ Tera__ Pyar,,,,," to "Buy...
2016-10-28 22:03:50
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Shahbaz King Rajput changed the type of the group ",,,,,,Meri __ Zindgi__ Tera__ Pyar,,,,," to "Fami...
2016-10-28 21:44:58
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Komal, you have 99 new notifications, 241 messages. and 11 pokes
2016-10-27 13:47:46
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Komal, you have 99 new notifications, 241 messages. and 1000 friend requests
2016-10-25 13:57:26
password+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Somebody requested a new password for your Facebook account
2016-10-24 11:27:13
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Komal, you have 99 new notifications, 99 group invitations and 29 photo tags
2016-10-23 14:26:53
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Manoj Thakur, Rohit Patenwal and 4 others have their birthdays today
2016-10-20 08:23:24
update+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Kamal Khatik commented on a photo that you're tagged in.
2016-09-26 04:52:48
security@facebookmail.com
Facebook password reset
2016-09-17 10:45:08
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Sandeep Sidhu, Mahesh Kumar Ashish Shing and 3 others have their birthdays today
2016-08-06 02:09:15
update+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Ghanshyam Tiwari commented on a photo that you're tagged in.
2016-07-05 06:22:08
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
‎محمدالاصل والبقي قليل الاصل‎ changed the name of the group "‎اضحك 󾌩ماهي كدا كدا󾌢خربانة 󾬒‎" to "‎آُض...
2016-06-24 05:48:02
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Do you know Balyogiswami Vishwaksenacharya, Pran Powers and 8 others?
2016-06-10 22:14:32
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
[(( परम परमात्मा की प्राप्ति ))] ंंंंंंंंंंंं परम प्रेम ंंंंंंंंंंंंं
2016-05-20 15:05:31
To: karme@add3000.pp.ua
From: notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com (sender info)
Subject:

[(( परम परमात्मा की प्राप्ति ))] ंंंंंंंंंंंं परम प्रेम ंंंंंंंंंंंंं


Received: 2016-05-20 15:05:31
(1 sec.) Created: 2016-05-20 15:05:30 (?)
  परम श्रिज्ञाशँकवी जी posted in (( परम परमात्मा की प्राप्ति )) .       परम श्रिज्ञाशँकवी जी 20 May at 20:35   ंंंंंंंंंंंं परम प्रेम ंंंंंंंंंंंंं प्रेम एक गहरे सागर की भाती है जो अथाह है और ईसमे जो जितना डूबता है वो उतने आनंद के गोते लगाते है और शूख शांति खुशी पाते हैं क्योंकि प्रेम ही एक है जो सब को भाते है और हर किसी को नोर्मल बनाते हैं और दया छमा कृपा के पात्र हो जाते हैं ईसमे कोई भेदभाव नहीं होते हैं बल्कि निस्वार्थ भाव होते हैं यह एक अमृत है जिसे पीने ने से सभी के पृय होते हैं और अपने लगने लगते हैं जैसे सभी हमारे ही है और हम सभी के है ईसमे भूल चुक व गलती के लिए क्रोध नहीं बल्कि माफी व समझ है प्रेम कई प्रकार के हैं और सभी से अलग अलग रुप रंग ऊमंग में है मम्मता सनेह प्यार दुलार लाड सभी इसी में है परम श्रिज्ञाशँकवी जी ने सबसे पहले प्रेम के ही बिधान बनाये हैं जिसमें हर छड व अहसास को दर्शाये है प्रेम के ही अधार पर तो समुचि सृष्टि संसार को बनाए बसाये है जो पवित्र है सुंदर है सही है सच्चा और अच्छा है इस लिए जहां प्रेम हो वहां परमात्मा होते हैं और जहाँ परमात्मा होते हैं वहाँ सदा खुशहाल होते हैं व कीसी चीझ की कमी नहीं होते हैं यहाँ तक कि देवता देवीयो के भी कृपा होते हैं और अनय सभी प्राणियों के भी एक प्रेम ही है जो हर किसी को जीत लेते है और सदा जिंदा रहते हैं तभी तो अमर प्रेम कहते हैं ंंंंं   Like Comment Share    
   
 
   Facebook
 
   
   
 
परम श्रिज्ञाशँकवी जी posted in (( परम परमात्मा की प्राप्ति )).
 
   
परम श्रिज्ञाशँकवी जी
20 May at 20:35
 
ंंंंंंंंंंंं परम प्रेम ंंंंंंंंंंंंं
प्रेम एक गहरे सागर की भाती है जो अथाह है और ईसमे जो जितना डूबता है वो उतने आनंद के गोते लगाते है और शूख शांति खुशी पाते हैं क्योंकि प्रेम ही एक है जो सब को भाते है और हर किसी को नोर्मल बनाते हैं और दया छमा कृपा के पात्र हो जाते हैं ईसमे कोई भेदभाव नहीं होते हैं बल्कि निस्वार्थ भाव होते हैं यह एक अमृत है जिसे पीने ने से सभी के पृय होते हैं और अपने लगने लगते हैं जैसे सभी हमारे ही है और हम सभी के है ईसमे भूल चुक व गलती के लिए क्रोध नहीं बल्कि माफी व समझ है प्रेम कई प्रकार के हैं और सभी से अलग अलग रुप रंग ऊमंग में है मम्मता सनेह प्यार दुलार लाड सभी इसी में है परम श्रिज्ञाशँकवी जी ने सबसे पहले प्रेम के ही बिधान बनाये हैं जिसमें हर छड व अहसास को दर्शाये है प्रेम के ही अधार पर तो समुचि सृष्टि संसार को बनाए बसाये है जो पवित्र है सुंदर है सही है सच्चा और अच्छा है इस लिए जहां प्रेम हो वहां परमात्मा होते हैं और जहाँ परमात्मा होते हैं वहाँ सदा खुशहाल होते हैं व कीसी चीझ की कमी नहीं होते हैं यहाँ तक कि देवता देवीयो के भी कृपा होते हैं और अनय सभी प्राणियों के भी एक प्रेम ही है जो हर किसी को जीत लेते है और सदा जिंदा रहते हैं तभी तो अमर प्रेम कहते हैं ंंंंं
 
Like
Comment
Share
 
 
   
   
 
View on Facebook
   
Edit Email Settings
 
   
   
Reply to this email to comment on this post.
 
   
   
 
This message was sent to karme@add3000.pp.ua. If you don't want to receive these emails from Facebook in the future, please unsubscribe.
Facebook, Inc., Attention: Community Support, Menlo Park, CA 94025
   
 
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Joao Damiao Agostinho Agostinho confirmed your Facebook friend request
2016-04-26 15:21:02
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Ankur Upadhyay wants to be friends on Facebook
2016-04-23 08:55:52
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
Arjeda Cuka confirmed your Facebook friend request
2016-04-20 18:21:56
notification+kr4kgbr2wyar@facebookmail.com
လိုးခ်င္တယ္ အဖုတ္ကို confirmed your Facebook friend request
2016-04-20 15:32:08

Needs more domains names? Add your own domains using emailfake.com

What is "email-fake.com" - service?

Unlimited mailboxes

You can use as many email accounts as you need.

Privacy

Letters have come to the mailbox publicly available. And at any time you can remove any messages.

Messages keep unlimited time

Messages are stored on the server until someone deletes them.

No need passwords

You do not need to register new mailboxes. Mailbox is created automatically when on it comes a letter.

Do not need to remember address

When you want to get a letter just invent your own address and check it on our website (the list of available domain names can be seen from above).

Name Generator

You can quickly think up the name with name generator - namefake.com

Hide from the sender

Sender don't know your real ip address and your location.

Support multi-language messages

Fake email service display messages of any language.

Spam block

Tired of spam in your main inbox? Then use our mail to protect yourself from Spam.

Speed and automation

You do not need to wait too much time to get a letter, a letter will appear on your screen at once.